अमिताभ के साथ काम कर चुकी यह बच्ची अब हो गई है बड़ी, पिता के कारण फिल्मों से बनाई दूरी

0
172

बता दे हिंदी सिनेमा में ऐसे बहुत से कलाकार हुए है जिन्होंने चाइल्ड आर्टिस्ट के रुप में अपनी बड़ी से बड़ी पहचान बनाई हैं। उन्होंने कई फिल्मों में काम किया है और फिल्म के मुख्य अभिनेता एवं मुख्य अभिनेत्री के बीच वे भी दर्शकों का दिल जीतने में भी वे कामयाब रहे चुके हैं। वहीं कई बाल कलाकार ऐसे हैं जो अपनी पहली ही फिल्म से दर्शकों की नज़र में आ गये और और अपनी पहचान बना चुके हैं। एक ऐसी ही अभिनेत्री का नाम आयशा कपूर हैं।

बता दे आयशा कपूर को शायद आप पहचान नहीं पाए हो। आपको जानकारी दे दें कि वे सदी के मशहुर अभिनेता अमिताभ बच्चन के साथ काम कर चुकी हैं। फिल्म का नाम था ‘ब्लैक’। यह फिल्म साल 2005 में पसुपरहिट हुई थी। फिल्म में अमिताभ बच्चन ने अपने काम से करोड़ों लोगों को एक बार फिर दिल जीत लिया था। वहीं फिल्म में लीड रोल में काम कर रही में थीं मशहूर अदाकारा रानी मुखर्जी भी थी।

मशहुर अमिताभ बच्चन और अभिनेत्री रानी मुखर्जी जैसे शानदार कलाकारों के बीच आयशा कपूर भी दर्शकों का ध्यान अपनी ओर खींचने में कामयाब रही चुकी थी। जानकारी के अनुसार बता दें कि फिल्म ब्लैक के समय आयशा कपूर सिर्फ 11 से 12 साल की थी।

आयशा कपूर ने फिल्म में एक अंधी, गूंगी और बहरी लड़की का किरदार निभाया था। उनके किरदार में इतनी शारीरिक कमजोरी होने के बाद भी वे अपने काम से झंडे गाड़ चुकी थी । उनकी आलोचक भी उनका दमदार काम देखकर काफी हैरानी में दिखने लगे थे। यह जानकारी दे दे कि आयशा ने फिल्म ‘ब्लैक’ में रानी मुखर्जी के बचपन का किरदार निभाया था।

उनका जन्म 13 सितंबर 1994 को जर्मनी में हुआ तो। यशा कपूर अब 27 साल की हो चुकी हैं। उनके पिता का नाम दिलीप कपूर और उनकी माता का नाम जैकलीन कपूर हैं।

फिल्म ब्लैक के समय से लेकर अब तक इन 16 सालों में अभिनेत्री के लुक में काफी बदलाव आ चुका है। काफी बड़ी होने के साथ ही वे अब बेहद ख़ूबसूरत और जवां भी हो चुकी हैं। आपको यह बता दें कि आयशा फ़िल्मी दुनिया से दूर हैं।

जर्मनी में जन्मी आयशा कपूर की परवरिश भारत के तमिलनाडु के विल्लुपुरम जिले के औरोविल में हुई थी। अपनी पहली फिल्म से हर किसी का दिल जीतने वाली आयशा ने हालांकि फ़िल्मी दुनिया में अपना करियर नहीं बनाया है।

हाल ही में अपने एक साक्षात्कार में उन्होंने बताया कि, औरोविल के लोग ज्यादा फिल्में नहीं देखते हैं। ये ऐसा नहीं है जैसा दिल्ली और मुंबई में पलना बढ़ना। उनके फिल्म में होने और मशहूर होने से उनके यहां के लोगों को कोई खास फर्क नहीं पड़ता था। उन्होंने बताया हैं कि जब वह पंडुचेरी जाती थी तो लोग पहचानते थे और ऑटोग्राफ मांगते थे यह उन्हें काफी अजीब लगता था।

आयशा कपूर ने आगे ख़ुलासा करते हुए कहा कि, ‘उन्हें बॉलीवुड से दूर रखने का फैसला उनके पिता का था। उनके पिता उन्हें लेकर काफी प्रोटेक्टिव हैं।वह नहीं चाहते थे कि वह बॉलीवुड में रहे। वो मुंबई में नहीं रह रहे थे इसलिए नहीं चाहते थे कि वह एक ऐसी जिंदगी जियें।

मिली जानकारी के अनुसार बात दे कि आयशा कपूर अपनी मां जैकलीन की कंपनी में को-फाउंडर के रुप में काम कर रही हैं। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि, ‘पिछले साल ही उन्होंने कोलंबिया यूनिवर्सिटी में सोसोयोलॉजी से ग्रेजुशएन कंप्लेट किया है । इसके बाद उन्होंने एक साल हेल्थ और न्यूट्रिशन का कोर्स भी किया हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here